JOIN US ON TELEGRAM Join Now
JOIN US ON WHATSAPP Join Now

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2024; महिलाओं तथा बच्चों को साइबर क्राइम से बचाएगी सरकार, जानें कैसे

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना की शुरुआत झारखण्ड के माननीय मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा 17 दिसंबर 2020 को हुई थी। इसे Cyber Crime Prevention Against Women & Children Scheme (CCPWC) कहा जाता है। झारखण्ड सरकार प्रदेश के अन्य नागरिकों के साथ ही महिलाओं और बच्चों को साइबर अपराध बचाने के लिए और उन्हें इसके प्रति जागरूक करने के लिए इस योजना की शुरुआत की है। इस योजना के माध्यम से सरकार का प्रयास है कि प्रदेश के नागरिकों विशेषकर महिलाओं और बच्चों को साइबर क्राइम के विभिन्न स्वरूपों के बारें में जानकारी प्रदान कर दी जाए जिससे ये लोग साइबर ठगों से पहले से ही सावधान रहें और इनका शिकार होने से बच सकें।

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना

इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना का उद्देश्य, इसके लाभ, साइबर क्राइम का शिकार होने पर शिकायत कैसे दर्ज कराएं? इस योजना के अंतर्गत आने वाले अपराध और झारखंड राज्य के सभी साइबर अपराध पुलिस स्टेशन के नाम और उनके मोबाइल नंबर इत्यादि के बारे में विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराएँगे। अतः अपने सभी सम्मानित पाठकों से अनुरोध है कि इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2024

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के माध्यम से ऑनलाइन साइबर अपराध का पंजीकरण, लोगों में जागरूकता फैलाना, क्षमता निर्माण तथा साइबर अपराध की रोकथाम के लिए टेक्नोलॉजी और रिसर्च संस्थानों के विकास का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस योजना द्वारा झारखण्ड सरकार पुलिस के आधुनिकीकरण पर विशेष जोर दे रही है जिसके अंतर्गत राज्य के पुलिस को केंद्र और उत्तराखंड पुलिस के सहयोग से नई तकनीकी के इस्तेमाल के बारे में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जिससे ये पुलिस अधिकारी बढ़ते हुए साइबर क्राइम से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए राज्य में एक मजबूत पुलिस तंत्र का विकास कर सकें। इसीलिए मुख्यमंत्री जी ने झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना की घोषणा की है।

साइबर क्राइम की श्रेणी में आने वाले अपराध

सूचना और संचार टेक्नोलॉजी आज व्यक्ति के जीवन का हिस्सा बन गया है। हम नौकरी खोजने के लिए, दैनिक खर्च के पेमेंट के लिए, व्यवसाय के लिए, शॉपिंग और विभिन्न जरूरतों के लिए ऑनलाइन माध्यम का प्रयोग करते हैं। जिससे साइबर अपराधी भी ऑनलाइन माध्यमों का प्रयोग करके लोगों को शिकार बनाते हैं। झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत निम्नलिखित श्रेणी के अपराध आते हैं।

  • CVV और OTP के द्वारा फर्जीवाड़ा
  • UPI के द्वारा फर्जीवाड़ा
  • गूगलपे, फोनपे, PAYTM और QR कोड इत्यादि के द्वारा फर्जीवाड़ा
  • Google Docs ऐप के जरिये फर्जीवाड़ा
  • ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म (फ्लिपकार्ट, अमेज़न इत्यादि) के जरिये फर्जीवाड़ा
  • फर्जी Cashback ऑफर के द्वारा फर्जीवाड़ा
  • स्क्रीन शेयरिंग ऐप्स (Anydesk इत्यादि) द्वारा फर्जीवाड़ा
  • सिम कार्ड स्वैपिंग के जरिये फर्जीवाड़ा
  • फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट के द्वारा किया जाने वाला फर्जीवाड़ा
  • साइबर बुलिंग, साइबर स्टॉकिंग और कैटफ़िशिंग
  • फेसबुक के माध्यम से अश्लीलता
  • ATM डेबिट कार्ड की क्लोनिंग के द्वारा
  • फर्जी लाटरी का लालच देना
  • ऑनलाइन नौकरी का झांसा
  • कंप्यूटर, मोबाइल और अन्य डिवाइस के हैकिंग द्वारा फर्जीवाड़ा
  • मोबाइल ऐप्स के द्वारा फर्जीवाड़ा

Also Read- Jharkhand Mukhyamantri Sukanya Yojana 2024

महिलाओं तथा बच्चों को साइबर क्राइम से कैसे बचाएगी सरकार

झारखण्ड सरकार प्रदेश के प्रत्येक नागरिकों को साइबर अपराधियों से बचाने के लिए विभिन्न स्तर पर प्रयास कर रही है। झारखण्ड साइबर क्राइम (Cyber Crime Jharkhand) के मामले में देश के प्रमुख राज्यों में शामिल है। झारखंड के जामताड़ा और देवघर जिले साइबर क्राइम का हॉटस्पॉट हैं जहाँ काफी लोग साइबर क्राइम के शिकार होते हैं। साइबर क्राइम के मामलों के सबसे ज्यादा शिकार बच्चे और महिलाएं होती हैं क्योकि ये साइबर अपराधियों के सॉफ्ट टारगेट होते हैं। झारखण्ड में शिक्षा और तकनीकी का प्रसार देश के अन्य हिस्सों की अपेक्षा कम है जिससे यहाँ महिलाओं को आसानी से मुफ्त इनाम का लालच देकर साइबर क्राइम का शिकार बनाया जाता है।

बच्चे सोशल मीडिया और ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म पर अधिक एक्टिव रहते हैं जिससे ये भी साइबर अपराधियों के निशाने पर रहते हैं। राज्य सरकार इस योजना के तहत महिलाओं और बच्चों को साइबर अपराध के तरीकों और उनसे बचने हेतु जागरूकता फैलाने का अभियान चला रही है। बच्चों और महिलाओं को साइबर क्राइम के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए झारखंड पुलिस ने साइबर सुरक्षा जागरूकता पुस्तिका (Cyber Security Awareness Handbook) जारी की है। जिससे साइबर अपराध के विभिन्न स्वरूप और उनसे बचने के तरीकों के बारे में बताया गया है। इस योजना की जागरूकता पुस्तिका डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

महिलाओं लिए साइबर सुरक्षा हेतु सुझाव (Cyber Crime Safety Tips For Women)

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत महिलाओं को साइबर अपराधियों से सुरक्षित करने के लिए निम्नलिखित सुझाव दिए गए हैं। जिससे फॉलो करके आप साइबर अपराधियों का शिकार होने से बच सकते हैं।

  • अपने पासवर्ड को किसी को भी न बताएं और न ही अपने अकाउंट को किसी अन्य व्यक्ति को हैंडल करने दें।
  • अपने कार्ड का CVV और किसी भी प्रकार का OTP किसी के भी साथ शेयर न करें।
  • सोशल मीडिया के मैसेंजर में प्राप्त किसी भी अनचाहे लिंक पर क्लिक न करें।
  • अपनी निजी जानकारी, मोबाइल नंबर, ईमेल जन्मतिथि इत्यादि को सोशल मीडिया पर शेयर न करें।
  • किसी भी अनजान व्यक्ति को अपने सोशल मीडिया की फ्रेंड लिस्ट में न जोड़ें।
  • अपने फोटो शेयर करते समय सतर्कता बरतें और सोशल मीडिया अकाउंट में प्राइवेसी सेटिंग अपडेट करें।
  • अगर आपको ऐसा लगे कि आपकी ऑनलाइन प्राइवेसी और सुरक्षा पर कोई खतरा है तो तत्काल साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन या नजदीकी पुलिस थाने को सूचित करें।

बच्चों लिए साइबर सुरक्षा हेतु सुझाव (Cyber Crime Safety Tips For Children)

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अन्तर्गत बच्चों को साइबर अपराध का शिकार होने से बचने निम्न सुझाव दिया गया है। इन सुझावों का पालन करके बच्चे अपने आपको साइबर क्राइम का शिकार होने से बचा सकते हैं।

  • अपनी निजी जानकारी जैसे मोबाइल नंबर, पता, जन्मतिथि इत्यादि को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा करने से बचें।
  • अश्लील अथवा आपत्तिजनक ई-मेल, चैट अथवा पोस्ट का जवाब देने से बचें।
  • ऐसे किसी भी साइट पर साइन-अप न करें जहाँ विशेष उम्र की सीमा तय की गई है।
  • अपने किसी भी अकाउंट का पासवर्ड किसी को भी न बताएं।
  • किसी भी अनजान व्यक्ति को अपने सोशल मीडिया अकाउंट फ्रेंड लिस्ट में न शामिल करें।
  • बिना अपने माता-पिता की सलाह के ऑनलाइन शॉपिंग से बचें।
  • अपने किसी भी ऑनलाइन से दोस्त से अपने माता-पिता की निगरानी के बिना मिलने हेतु न जाएँ।

झारखंड साइबर क्राइम की ऑनलाइन शिकायत कैसे दर्ज कराएं? (Jharkhand Cyber Crime Online Complaint)

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत साइबर क्राइम की शिकायत (Cyber Crime Complaint Jharkhand) ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही माध्यम से दर्ज कराइ जा सकती है। साइबर क्राइम की ऑफलाइन शिकायत अपने नजदीकी पुलिस थाने पर दर्ज करा सकते हैं। अगर पुलिस थाने अपनी शिकायत दर्ज कराने में कोई समस्या है तो आप नीचे दिए गए आसान से स्टेप्स को फॉलो करके ऑनलाइन भी साइबर क्राइम की शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

  • स्टेप-1 सबसे पहले झारखंड पुलिस के ऑनलाइन FIR प्रणाली (Jharkhand Online FIR System) की ऑफिसियल वेबसाइट https://jofs.jhpolice.gov.in को ओपन करें।
Jharkhand Online FIR System
  • स्टेप-2 इसके बाद JOFS के होमपेज पर Complain पर क्लिक करें जैसा की ऊपर इमेज में दिखाया गया है।
  • स्टेप-3 अब आपकी स्क्रीन पर ऑनलाइन FIR का फॉर्म खुलकर आएगा जिसमे अपना अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर और अन्य विवरण भरें।
  • स्टेप-4 अब Identity Attachment में अपने पहचान पत्र का प्रकार और उसकी संख्या लिखें और पहचान पत्र की स्कैन कॉपी को अपलोड करें।
Identity Attachment
  • स्टेप-5 इसके बाद Complain Detail में ‘Cyber Related’ को सेलेक्ट करें तथा अन्य विवरण भरें फिर अपने प्रार्थना पत्र की स्कैन कॉपी को अपलोड करें। ध्यान रहें प्रार्थना पत्र में शिकायतकर्ता के हस्ताक्षर अथवा अँगूठे का निशान जरूर लगा हो।
Cyber Related
  • स्टेप-6 इसके बाद आपने मोबाइल पर प्राप्त OTP को लिखकर Verify OTP पर क्लिक कर दें।
  • इस तरह से झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत आपकी ऑनलाइन शिकायत पंजीकृत हो जाएगी और आपके मोबाइल पर FIR नम्बर का मैसेज प्राप्त हो जायेगा।

झारखण्ड राज्य के विभिन्न साइबर पुलिस स्टेशन

झारखंड पुलिस के साइबर सेल का मुख्यालय रांची में स्थित है। जिसका पता साइबर अपराध पुलिस स्टेशन कचहरी चौक, रांची झारखण्ड है। साइबर अपराध पुलिस स्टेशन के उप अधीक्षक (Dy. SP) का मोबाइल नंबर 9771432133 और लैंडलाइन नंबर 0651-2220060 है। जहाँ आप आवश्यकता पड़ने पर शिकायत कर सकते हैं। झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत साइबर अपराध की रोकने के लिए झारखण्ड राज्य के 6 जिलों में साइबर पुलिस स्टेशन स्थापित किये गए हैं। जिसकी सूची और उन पुलिस स्टेशनों के मोबाइल नंबर आगे दिया गया है।

साइबर पुलिस स्टेशन का जिलामोबाइल नम्बर
धनबाद 9905936731
जमशेदपुर9430774631
देवघर9798302205
जामताड़ा9471194942
गिरिडीह9471194985
पलामू9264196948

झारखण्ड साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन का ई-मेल आईडी क्या है?

Cyber Crime Police Station Jharkhand का ई-मेल आईडी [email protected] है।

झारखण्ड साइबर क्राइम का हेल्पलाइन नंबर क्या है?

+91-9771432133

साइबर क्राइम की ऑनलाइन शिकायत कहाँ करें?

आप अपनी शिकायत https://jofs.jhpolice.gov.in अथवा केंद्रीय साइबर क्राइम एजेंसी के वेबसाइट https://cybercrime.gov.in पर की जा सकती है।

Related Post

Leave a Comment

error: Content is protected !!