How to Increase Cibil Score From 500 to 750? इन सरल और आसान तरीको से बढ़ा लो अपना सिबिल स्कोर, फिर मत कहना नहीं बताया

How to increase cibil score from 500 to 750: किसी भी बैंक या संस्था से लोन लेने में व्यक्ति का सिबिल स्कोर एक अहम भूमिका निभाता है। यदि आपका सिबिल स्कोर अच्छा होता है तो आपको कम ब्याज पर लोन मिलने की संभावना अधिक होती है, वहीं यदि सिबिल स्कोर अच्छा न हो तो आपको

Photo of author

Reported by Shiv Nagar

Published on

JOIN US ON TELEGRAM Join Now
JOIN US ON WHATSAPP Join Now

How to increase cibil score from 500 to 750: किसी भी बैंक या संस्था से लोन लेने में व्यक्ति का सिबिल स्कोर एक अहम भूमिका निभाता है। यदि आपका सिबिल स्कोर अच्छा होता है तो आपको कम ब्याज पर लोन मिलने की संभावना अधिक होती है, वहीं यदि सिबिल स्कोर अच्छा न हो तो आपको लोन मिलने में समस्या हो सकती है। सिबिल स्कोर आपके क्रेडिट हिस्ट्री की एक तीन अंकों की संख्या होती है, जो 300 से 900 तक होती है और किसी भी व्यक्ति के लोन लेने की योग्यता को दर्शाती है। लोन देने वाली वित्तीय संस्था इसे व्यक्तिगत लोन या अन्य लोन आवेदन का मूल्यांकन करते समय अहम कारक मानती हैं।

बता दें, 750 या उससे अधिक का सिबिल स्कोर एक अच्छा सिबिल स्कोर श्रेणी में आता है, जिसमे लोन की संभावना और स्वीकृति बेहद बढ़ जाती है, वहीं 500 या उससे कम का सिबिल सकोर खराब श्रेणी में आता है, जिसपर लोन मिलने में परेशानी हो सकती है या अधिक ब्याज दर पर लोन मिलता है। ऐसे में अगर आप भी पर्सनल लोन लेना चाहते हैं, लेकिन पुराने लोन का भुगतान समय से नहीं करने पर आपका सिबिल स्कोर ख़राब हो गया है, तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। इस लेख के माध्यम से हम आपको बेहद ही सरल और आसान तरीको से सिबिल स्कोर को बढ़ाने (How to increase cibil score from 500 to 750) से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे, जिसके लिए आप लेख को पूरा अवश्य पढ़ें।

How to Increase Cibil Score From 500 to 750? इन सरल और आसान तरीको से बढ़ा लो अपना सिबिल स्कोर, फिर मत कहना नहीं बताया

इन सरल और आसान तरीको से बढ़ाएं अपना सिबिल स्कोर

अगर आपका सिबिल स्कोर 500 या उससे कम (खराब) है और आपको कम सिबिल स्कोर पर लोन नहीं मिल रहा है तो इस स्थिती में आपको क्रेडिट अवसरों को बढ़ाने के लिए इसमें सुधार की सलाह दी जाती है। ऐसे में क्रेडिट स्कोर में सुधार के लिए हम आपको कुछ सरल और आसान तरीको की जानकारी प्रदान करेंगे, जिससे आप अपने सिबिल स्कोर में सुधार कर सकेंगे, तो चलिए जानते हैं How to increase cibil score from 500 to 750 करने की जरुरी टिप्स की पूरी जानकारी।

भुगतान इतिहास में सुधार

यदि आपका सिबिल स्कोर खराब है तो आपको भुगतान इतिहास में सुधार करना जरुरी है, खराब क्रेडिट स्कोर ईएमआई और क्रेडिट बिल भुगतान में चूक या अधिक ऋण लेना जैसा कारण हो सकता है। ऐसे में समय पर आपके भुगतान क्रेडिट व वित्तीय प्रबंधन के प्रति आपकी जिम्मेदारी अधिक बढ़ जाती है, जिससे आपका क्रेडिट स्कोर बढ़ता है और आपको लोन कम ब्याज दर पर मिलने की संभावनाएं भी बनी रहती है। ऐसे में यदि अगर आप लोन लेते हैं और उसके एक भी भुगतान चूकने से बचना चाहते हैं तो आप ऑटो-भुगतान विकल्प या अनुस्मारक (Reminder) सेट करके भी समय-समय पर भुगतान कर सकते हैं।

विश्वास नहीं होगा! जीरो सिबिल स्कोर पर भी लाखों का लोन, जानें कैसे होगा संभव

1.5 लाख रुपये का इंस्टेंट पर्सनल लोन बिना सिबिल स्कोर के, सिर्फ आधार कार्ड से ही हो जाएगा काम

क्रेडिट उपयोग अनुपागत कम करना (Low Credit Utilization Ratio)

क्रेडिट उपयोग अनुपात कम करना भी आपके क्रेडिट स्कोर में सुधार के लिए एक अहम भूमिका रखता है, क्रेडिट उपयोग अनुपात ऋणदाता द्वारा निर्धारित क्रेडिट सीमा से आपके द्वारा उपयोग किए गए प्रतिशत को दर्शाता है। एक बेहतर ढंग से आपको अपना सिबिल स्कोर बनाए रखने के लिए अपना क्रेडिट उपयोग अनुपात 30% से कम रखने का प्रयास करना चाहिए। क्योंकि 40% से ऊपर का अनुपात आपकी विश्वसनीयता को नुक्सान पहुंचा सकता है। ऐसे में अगर आप अपने क्रेडिट कार्ड का अधिक उपयोग करने से पहले अपने खर्चे की आदत पर दोबारा विचार जरूर करें।

कार्ड के क्रेडिट उपयोग अनुपात को हर महीने खत्म किए बिना प्रतिबंध करना बेहद ही जरुरी है, क्योंकि नियमित आधार पर अधिक क्रेडिट का उपयोग करने से आपका क्रेडिट स्कोर घट जाता है, हालांकि यदि आप सोचते है की आप क्रेडिट का बिलकुल भी उपयोग नहीं करें तो आपका क्रेडिट स्कोर बढ़ जाएगा, तो इससे भी आपको कोई लाभ नहीं मिलेगा। ऐसे में यह जरुरी है की आप अपनी क्रेडिट सीमा का केवल 30% तक ही उपयोग करें इससे आपका सिबिल स्कोर बेहतर हो सकेगा।

पुराने क्रेडिट को बंद करने से बचे

अगर आपके पास कई सारे क्रेडिट कार्ड है जिनका आप उपयोग नहीं करते हैं तो सिबिल स्कोर में सुधार के लिए उन्हें बंद न करें। ऐसा इसलिए कयोंकि जिन क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल आप नहीं करते वह स्वचालित रूप से बंद नहीं होते हैं, भले ही आपके पास शून्य बकाया राशि वाले कार्ड हैं तो यह भी आपके लिए किसी वरदान से कम साबित नहीं होगा, आप चाहें तो ऐसे कार्ड जिनका क्रडिट इतिहास खराब है उन्हें रद्द कर सकते हैं। लेकिन अधिक बेहतर क्रेडिट इतिहास वाले कार्ड को बनाए रखने से आपके क्रेडिट स्कोर में वृद्धि होगी। इन क्रेडिट कार्ड की आयु आपके क्रेडिट इतिहास को लंबा कर देगी और आपके उपयोग अनुपात को कम रखने के लिए भी उनकी क्रेडिट सीमा उपलब्ध करवाएगी।

Central Bank Of India Personal Loan; बड़ा लोन चाहिए, तो लेलो 20 लाख का पर्सनल लोन, यह सरकारी बैंक देगा मिनटों मे पैसा

Union Bank Personal Loan – अगर नही है कमाई का कोई साधन तो, यह बैंक देगा आपको 1 रुपये से 15 लाख का लोन, किसी सिक्युरिटी की जरूरत नहीं

एकाधिक क्रेडिट पूछताछ से बचे

सिबिल स्कोर में सुधार के लिए जब आप लोन लेते हैं तो ऋणदाता द्वारा आपसे आपके इतिहास का मूल्यांकन करने के लिए प्रश्न पूछे जाते हैं, यह बेहद ही कठिन पूछताछ होती हैं जिसके कारण आपके क्रेडिट स्कोर में काफी गिरावट भी आ सकती है। हालांकि हलकी पूछताछ से आपके क्रेडिट स्कोर पर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। जिससे आपका सिबिल स्कोर भी खराब नहीं होता और आपको भविष्य में लोन मिलने में भी आसानी होती है।

समय पर करें ईएमआई का भुगतान

आपके द्वारा लिए गए लोन के ईएमआई भुगतान की निरंतर सीधे आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करती है, समय पर ईएमआई राशि का भुगतान नहीं करने से आपपर अतिरिक्त शुल्क लगता है और इससे आपका स्कोर भी कम होता है। ऐसे में समय पर भुगतान के साथ आपका सिनिल स्कोर 500 से 750 तक बढ़ सकता है। इसके अलावा आप न्यूनतम शेष राशि का बजाय यदि पूरी देय राशि का भुगतान करते हैं तो आप शेष राशि पर ब्याज अर्जित करने से बच सकेंगे।

ऋण का समेकन करना

किसी भी बैंक या वित्तीय संस्था से लोन लेने के बाद हर महीने उसकी ईएमआई का भुगतान करने में संघर्ष करने के बजाय आप अपने लोन का समेकित कर छोटी ईएमआई का भुगतान कर सकते हैं। बता दें व्यक्तिगत ऋण के साथ बकाया ऋण का भुगतान करना ऋण समेकन कहलाता है, इससे आप शेष राशि का भुगतान करने और उसपर अधिक ब्याज देने से बच सकते हैं। किसी भी पर्सनल लोन में क्रेडिट कार्ड की तुलना कम ब्याज दरें और आसान पुर्नभुगतान शर्तें लागू होती हैं, इससे ऋण पुर्नभुगतान आसान होने के साथ आपका क्रेडिट स्कोर भी बढ़ने लगता है।

क्रेडिट रिपोर्ट पर रखे नजर

सिबिल रिपोर्ट में किसी भी तरह की गलतियां जैसे गलत विवरण, गलत खाता जानकारी या गलत रिपोर्टिंग आदि आपके सिबिल स्कोर में नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इसलिए यह जरुरी है की आप समय रहते इन त्रुटियों की पहचान करने के लिए नियमित रूप से अपने क्रेडिट रिपोर्ट पर नजर बनाए रखें और अगर आपको किसी तरह की गलती दिखाई देती है तो आप तुरंत ही सिबिल विवाद उठाएं और अपने सिबिल स्कोर को तुरंत बढ़ावा देने के लिए इसे ठीक करवाएं। इससे आपका क्रेडिट स्कोर बेहतर रहेगा और आपको लोन मिलने में कभी भी किसी तरह की समस्या नहीं आएगी।

क्रेडिट मिक्स

यदि आप कई जगहों से बहुत सा असुरक्षित लोन ले लेते हैं तो यह भी आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। ऐसे में यदि आप अपनी वित्तीय जरूरत के लिए एक से अधिक ऋण लेते हैं तो आप सुरक्षित ऋण लेकर अपने पोर्टफोलियो को संतुलित करने का प्रयास करें, यह आपकी प्रोफ़ाइल को बेहतर करने में मदद करता है।

About the author

Shiv Nagar

Leave a Comment