JOIN US ON TELEGRAM Join Now
JOIN US ON WHATSAPP Join Now

इंटरनेट बैंकिंग क्या है? इसका उपयोग किस काम के लिए किया जाता है

आज के ऑनलाइन डिजिटल युग में कम समय में बैंकिंग संबंधी कार्यों को पूरा करने के लिए बैंक अपने ग्राहकों को ऑनलाइन कई बैंकिंग सेवाओं का लाभ प्रदान कर रहे हैं, ऐसी ही सुविधा के जरिए बैंक द्वारा ग्राहकों को ऑनलाइन बैंकिंग सुविधा जैसे इंटरनेट बैंकिंग प्रदान करने के लिए वेबसाइट लांच की है। जिसके जरिए ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके देश में कही भी और कभी भी अपने बैंक संबंधी कार्य जैसे ऑनलाइन ट्रांजेक्शन मोबाइल या लैपटॉप के माध्यम से आसानी से पूरे करवा सकता है।

ऐसे में यदि आप भी अकाउंट किसी बैंक में है और आपको ऑनलइन वित्तीय लेनदेन के लिए इंटरनेट बैंकिंग की जानकारी नहीं है तो इंटरनेट बैंकिंग क्या है? इसके लाभ, इंटरनेट बैंकिंग से जुडी सेवाएं और इसका उपयोग किस काम के लिए किया जाता है इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी हम आपको अपने लेख के माध्यम से प्रदान करेंगे, जिसके लिए आप लेख को पूरा अवश्य पढ़ें।

know what is internet banking इंटरनेट बैंकिंग

इंटरनेट बैंकिंग क्या है?

इंटरनेट बैंकिंग जिसे ऑनलाइन बैंकिंग, वर्चुअल बैंकिंग या ई-बैंकिंग के नाम से भी जाना जाता है, एक ऑनलाइन यह एक इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली है जो ग्राहकों जो बैंक या अन्य वित्तीय संस्थानों के ग्राहकों को वित्तीय संस्थान की वेबसाइट के माध्यम से वित्तीय लेनदेन से संबंधित कार्यों को पूरा करने में सक्षम बनाती है, यह पूरी तरह सुरक्षित होने के साथ-साथ ग्राहकों के लिए बेहद ही सुविधाजनक भी है। इंटरनेट बैंकिंग से रजिस्ट्रेशन होने के बाद ग्राहक घर बैठे ही आसानी से बैंकिंग से जुड़े कार्य कर सकते हैं इसके लिए उन्हें बैंक जाने की आवश्यकता नहीं होगी। यदि आपके पास एक्टिव बैंक अकाउंट है और आपने ऑनलाइन बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन किया है तो आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Internet Banking से जुडी सेवाएं

बैंक के ग्राहक एक बार इंटरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन के बाद ऑनलाइन नेट बैंकिंग पोर्टल पर लॉगिन करके पोर्टल पर उपलब्ध सभी सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं, बैंकिंग सेवाएं कुछ इस प्रकार है।

  • ऑनलाइन IMPS फंड ट्रांसफर
  • ऑनलाइन बैलेंस चेक
  • NEFT & RTGS के जरिए फंड ट्रांसफर
  • अकाउंट स्टेटेमेंट चेक करना
  • चेक बुक जारी करना
  • निवेश करना
  • एफडी खोलें/बंद करें
  • मर्चेंट पेमेंट करें
  • अकाउंट जानकारी को मैनेज करें/बदलें
  • जनरल इंश्योरेंस खरीदें
  • ऑनलाइन टिकट बुक करें
  • प्रीपेड मोबाइल/डीटीएच रिचार्ज करें
  • ऑटोमेटिक पेमेंट सेट करें/कैंसिल करें
  • ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म में खरीदें/बेचें
  • निवेश करें और व्यापार करें
  • बिल पेमेंट
  • डिपॉजिट करें
  • मोर्गेज/लोन चेक करें

इंटरनेट बैंकिंग के लाभ

इंटरनेट बैंकिंग के तहत ग्राहकों को कई लाभ प्राप्त होते हैं, जो कुछ इस प्रकार है।

  • वित्तीय लेनदेन की सुविधा – इंटरनेट बैंकिंग के जरिए लोग वित्तीय लेनदेन, अलग-अलग अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने या बिल पेमेंट आदि कार्यों को आसानी से घर बैठे ही कर सकते हैं, इसके लिए आपको बार-बार बैंक जाकर लंबी कतारों में खड़े रहने की आवश्यकता नहीं होगी। ऑनलाइन इंटरनेट बैंकिंग से रजिस्ट्रेशन होने के बाद रजिस्टर्ड यूजर्स इसके जरिए सभी तरह की बैंकिंग सुवधाओं का लाभ उठा सकते हैं।
  • 24X7 उपलब्धता – इंटरनेट बैंकिंग की एक खासियत यह है की यह सामने बैंकिंग के जैसे समयबद्ध नहीं है, यानी यह बैंकिंग सेवा साल के 365 दिन, 24 घंटे उपलब्ध रहती है। इसके जरिए यूजर्स अपने बैंक बैलेंस, अकॉउंट स्टेटमेंट, ट्रांजेक्शन आदि कार्य किसी भी समय आसानी से कर सकते हैं।
  • समय की बचत – किसी भी बैंक के ग्राहक को जहां पहले बैंकिंग संबंधी कार्यों या वित्तीय लेनदेन के लिए कई बार बैंक जाना पड़ता था जिससे उनका काफी समय भी बर्बाद होता है, वहीं अब ऑनलाइन इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध होने से आप कुछ ही मिनटों में पैसों की लेनदेन से जुड़े कार्य को आसानी से पूरा कर सकते हैं। इंटरनेट बैंकिंग आपको किसी भी बैंक में तुरंत पैसे हस्तांतरित करने के साथ-साथ एफडी अकाउंट शुरू करने की भी अनुमती देता है।
  • गतिविधि ट्रैकिंग – बता दें ग्राहक द्वारा बैंक शाखा में किए गए प्रत्येक लेनदेन को लॉग किया जाता है, ऐसे में आवश्यकता पड़ने पर बैंक से लेनदेन को साबित करने के लिए आप इंटरनटे बैंकिंग के जरिए आप गतिविधि को ट्रैक भी कर सकते हैं।
  • गैर-वित्तीय लेनदेन – आपको बता दें इंटरनेट बैंकिंग के जरिए बैंक से पैसे ट्रांसफर करने के अलावा आप गैर वित्तीय लेनदेन (Non-Financial Transaction) जैसे बैलेंस चेक करना, अकाउंट स्टेटमेंट चेक करना आदि कार्य आसानी से कर सकते हैं।
  • सुरक्षित एवं सुविधाजनक – नेट बैंकिंग की सुविधा ग्राहकों को कुछ ही मिनटों में NEFT, RTGS या IMPS पैसे ट्रांसफर करने की सुविधा प्रदान करता है, यह सुविधा ग्राहकों के लिए बेहद ही सुविधाजनक होने के साथ-साथ उनके यूजर आईडी और पासवर्ड के जरिए अकाउंट को सुरक्षित रखने में भी मदद करता है।

इंटरनेट बैंकिंग की विशेषताएं

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने से पहले नागरिक जिन्हे इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल क्यों किया जाता है और इसकी क्या ख़ास विशेषताएं हैं इसकी जानकारी होना जरुरी ह। तो चलिए जानते हैं इंटरनेट बैंकिंग की ख़ास विशेषताएं जिनके जरिए बैंक नागरिकों को कई तरह की सुविधाएं प्रदान करता है।

  • देश का कोई भी बैंक जो अपने ग्राहकों को इंटरेनट बैंकिंग की सुविधा प्रदान करता है, उनके ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग के जरिए अपने ट्रांजेक्शन के बारे में सभी जनकारी ले सकते हैं।
  • इंटरनेट बैंकिंग के जरिए ग्राहकों को बैंक जाए बिना ही कभी भी और किसी भी समय बैंक में स्थाई पहुँच मिलती है।
  • ग्राहक अपने बैंक अकाउंट से ट्रांजेक्शन के साथ-साथ अपने अकाउंट का स्टेटमेंट भी खुद ही चेक कर सकते हैं।
  • ऑनलाइन ग्राहक किसी भी ई-कॉमर्स प्लेटफार्म पर किसी प्रोडक्ट की खरीद या बिक्री कर सकता है।
  • इंटरनेट बैंकिंग के जरिए ग्राहक अपने व्यापार का निवेश और संचालन आसानी से कर सकते हैं।
  • ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग की मदद से अपने जरुरी दस्तावेजों को डाउनलोड कर सकते है, जो केवल बैंक में ही उपलब्ध रहते हैं।
  • ग्राहक किसी भी परिवहन, यात्रा पैकेज और मेडिकल पैकेज आदि को बुक कर सकते हैं।
  • ऑनलाइन इंटरनेट बैंकिंग के जरिए ग्राहक किसी भी तरह के बिल भुगतान जैसे मोबाइल रिचार्ज, बिजली का बिल, पानी का बिल, डीटीएच कनेक्शन आदि का भुगतान आसानी से कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग के घटक

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले नागरिकों के लिए इसके जितने फायदे हैं वहीं इसके कुछ घटक भी देखने को मिलते हैं, जो कुछ इस प्रकार है।

  • बैंक के ग्राहक जो इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं, उनके लिए इंटरनेट बैंकिंग का एक नुक्सान यह भी है की यदि नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हुए सर्वर डाउन होता है तो आपका ट्रांजेक्शन बीच में ही अटक सकता है, जिसके चलते आपको कई बार बैंक के चक्कर भी काटने पड़ सकते हैं।
  • इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हुए यह आपको अपना लॉगिन आईडी और पासवर्ड किसी से शेयर नहीं करना होता है, यदि किसी को आपके नेट बैंकिंग की जानकारी पता चल जाती है तो आपके अकाउंट से पैसे चोरी होने का ख़तरा बन सकता है।
  • कई बैंक नेट बैंकिंग को पूरी तरह फ्री बताते हैं, लेकिन इसका उपयोग करने पर आपसे कुछ चार्ज लिया जाता है।

नेट बैंकिंग के माध्यम से पैसे ट्रांसफर करने के विकल्प

आपको बता दें नेट बैंकिंग के माध्यम से पैसे ट्रांसफर करने के कई विकल्प मौजूद हैं, जिनमे NEFT, RTGS और IMPS के जरिए पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं, जिनकी जानकारी कुछ इस प्रकार है।

  • RTGS – ऑनलाइन इंटरनेट बैंकिंग के जरिए पैसे ट्रांसफर करने के लिए आरटीजीएस जिसका पूरा नाम रियल टाइम ग्रॉस सेटेलमेंट हैं यह नेट बैंकिंग के जरिए तुरंत पेमेंट करने की एक महत्त्वपूर्ण प्रकरिया है। आरटीजीएस के माध्यम से ग्राहक कम से कम दो लाख रूपये राशि ट्रंसफर की जा सकती है वहीं अधिकतम राशि के लिए कोई लिमिट तय नहीं है। आरटीजीएस की सुविधा ग्राहकों के लिए 24X7 ऑनलाइन उपलब्ध होती है इस सुविधा का उपयोग ग्राहक अधिक राशि को ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है।
  • NEFT – नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) एक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर प्रणाली है, जिसके जरिए जो आरटीजीएस की तरह की ग्राहकों के लिए 24X7 उपलब्ध रहती है, लेकिन कुछ बैंकों में इसका इस्तेमाल अलग-अलग समय पर किया जा सकता है। NEFT का उपयोग व्यक्ति देश के किसी भी व्यक्ति या कंपनी के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने के लिए कर सकते हैं। इस सुविधा के जरिए ग्राहक 10 हजार से लेकर 2 लाख रूपये या इससे अधिक राशि का ट्रांसफर कर सकते हैं, NEFT द्वारा पैसे ट्रांसफर होने में 10 मिनट, आधा घंट या दो से तीन घंटे का भी समय लग सकता है।
  • IMPS – IMPS जिसका पूरा नाम इमिडिएट पेमेंट सिस्टम है, यह भी तुरंत पैसे ट्रांसफर करने के लिए एक बेहतर विकल्प है, इस सुविधा का इस्तेमाल मोबाइल, इंटरनेट और एटीएम के जरिए पैसे ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है। NEFT और RTGS के जरिए पैसे ट्रांसफर करने की तुलना में IMPS काफी सस्ता है, आईएमपीएस के जरिए पैसे ट्रांसफर करने के लिए आपके पास आपकी बैंक डिटेल्स जैसे आपका अकाउंट नंबर, IFSC कोड जैसी जानकारी होनी जरुरी है।

Internet Banking रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के लिए हर व्यक्ति को पहले बैंक जाकर इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होगा, जिसके बाद ही आप इंटरनेट या ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं, कई बैंक अपने ग्राहकों को बैंक अकाउंट खुलने के बाद नेट बैंकिंग लॉगिन किट भी जारी करते हैं, ऐसे में यदि आपको नेट बैंकिंग किट नहीं मिला है तो इंटरनेट बैंकिंग रजिस्ट्रेशन के लिए आप यहाँ बताए गए स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं।

  • इसके लिए सबसे पहले आप अपने बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट पर एप्लिकेशन फॉर्म डाउनलोड करें या आप अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर भी इंटरनेट बैंकिंग के लिए फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं।
  • अब फॉर्म को डाउनलोड कर इसका प्रिंटआउट निकलकर इसमें पूछी गई सभी जानकारी सही से भर दें।
  • सारी जानकारी भरकर बैंक में एप्लीकेशन फॉर्म जमा कर दें।
  • जिसके बाद वेरिफिकेशन होने पर आपको एक यूजर आईडी और पासवर्ड मिल जाएगा, जिसके जरिए आप नेट बैंकिंग लॉगिन कर सकेंगे।

इंटरनेट बैंकिंग के क्या फायदे हैं?

इंटरनेट बैंकिंग या ऑनलाइन बैंकिंग जो एक इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली है, इसके जरिए ग्राहक आसानी से अपने वित्तीय लेनदेन, बैंक स्टेटमेंट, बिल पेमेंट जैसे कार्यों को घर बैठे ही पूरे कर सकते हैं, यह सेवा ग्राहकों के लिए 24X7 उपलब्ध रहने के साथ-साथ सुविधाजनक और सुरक्षित है।

क्या इंटरनेट बैंकिंग का पासवर्ड बदला जा सकता है?

जी हाँ, पहली बार नेट बैंकिंग में लॉगिन के बाद ग्राहक को पासवर्ड बदलना होता है, जिसके बाद आप चाहे तो हर दो महीने में एक बार अपना नेट बैंकिंग का पासवर्ड बदल सकते हैं।

क्या इंटरनेट बैंकिंग के लिए यूजर आईडी और पासवर्ड बैंक द्वारा जारी किया जाता है?

बहुत से बैंक इंटरनेट बैंकिंग के लिए ग्राहकों को खाता खुलवाने पर खुद से यूजर आईडी और पासवर्ड प्रदान करते हैं, लेकिन यदि आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त नहीं होता तो आप अपने बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट पर इंटरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर कर यूजर आईडी और पासवर्ड बना सकते हैं।

नेट बैंकिंग रजिस्ट्रेशन की क्या प्रक्रिया है?

नेट बैंकिंग रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया लेख के माध्यम से प्रदान कर दी गई है, जिसे पढ़कर आप इसे पूरा कर सकते हैं।

Related Post

Leave a Comment

error: Content is protected !!