एसबीआई बिजनेस लोन 2023; जानें ब्याज दर, योग्यता और जरुरी दस्तावेज

बिजनेस लोन एक वित्तीय सहायता है। एसबीआई बिजनेस लोन भारतीय बिजनेस संसार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इसके द्वारा बहुत से छोटे-बड़े व्यवसायों को हर प्रकार के व्यावसायिक लोन प्रदान किया जाता है। भारतीय स्टेट बैंक विनिर्माण, सेवा क्षेत्र के साथ-साथ स्वरोजगार और पेशेवर व्यक्तियों, थोक या खुदरा व्यवसायियों को मौज़ूदा और फिक्स्ड एसेट खरीदने के लिए सिंपलीफाइड स्मॉल बिज़नेस लोन (SSBL) प्रदान करता है।

सरकारी योजनाओं के लिए भी भारतीय स्टेट बैंक व्यवसाय ऋण मुहैया करता है। जैसे गारंटीकृत आपात कालीन ऋण सुविधा योजना (जीईसीएल), स्टैंड-अप इंडिया, CGTMSE आदि। कोरोना काल के समय एसबीआई बिजनेस लोन के अंतर्गत हेल्थकेयर बिजनेस लोन को शुरू किया गया। इसके साथ ही कॉरपोरेट फाइनेंसिंग, सुरक्षित और असुरक्षित बिजनेस लोन, वाणिज्यिक प्रयोजनों के लिए भी एसबीआई बिजनेस लोन की सुविधा एसबीआई प्रदान करता है। पाठकों से अनुरोध है कि बिजनेस लोन से जुड़ी जानकारी के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें।

Table of Contents

एसबीआई बिजनेस लोन

भारतीय स्टेट बैंक भारत का सबसे बड़ा बैंक है। एसबीआई बिजनेस लोन एसएमई वर्ग के व्यवसाय को SBI द्वारा प्रदान किया जाता है। जिसका उद्देश्य भारत में छोटे और मध्यम आकर के बिजनेस को बढ़ावा देना है। एसएमई की श्रेणी वाले एसबीआई के बिजनेस लोन व्यवसायी के चालू खाते की शेष राशि पर दिए जाते हैं। इस प्रकार के ऋण की राशि 1 मिलियन रुपये से 25 लाख रुपये तक होती है। एसएमई के अंतर्गत ऋणों की पुनर्भुगतान अवधि 5 वर्ष तक होती है। एसएमई श्रेणी के एसबीआई बिजनेस लोन के अंतर्गत सूर्य शक्ति – सोलर वित्त, संपर्क रहित ऋण अनुमोदन मंच, आस्ति समर्थित ऋण – वाणिज्यिक स्थावर संपदा, फ्लीट फाइनान्स, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, व्यवसाय प्रतिनिधियों को ऋण आदि लोन आते हैं।

बिजनेस लोन क्या है?

बिजनेस लोन एक ऐसा लोन है जो मुख्यतः व्यावसायिक जरूरतों के लिए दिया जाता है। इसको व्यवसायिकों के लिए उनकी वित्तीय जरूरतों की पूरा करने के लिए डिजाइन किया गया है। बिजनेस लोन भी अन्य ऋणों की तरह ही एक ऋण है, जिसको अतिरिक्त तथा अधिक ब्याज के साथ चुकाया जाता है। इसकी पात्रता मानक ऋणदाता और ऋण के प्रकार की विशिष्टता के आधार पर भिन्न-भिन्न होती है। ये कई प्रकार के होते हैं। जिनमें मेजनाइन वित्तपोषण,परिसंपत्ति आधारित वित्तपोषण, सूक्ष्म ऋण नगदी प्रवाह ऋण, चलान फाइनेंसिंग, बैंक ऋण, व्यवसाय अग्रिम नकद ऋण आदि शामिल हैं। व्यावसायिक ऋण या तो सुरक्षित या असुरक्षित हो सकते हैं।

एसबीआई बिजनेस लोन की विशेषताएं

  • एसबीआई ग्राहकों की विस्तृत जरूरतों को पूरा करने के लिए व्यावसायिक ऋणों का एक विस्तृत चयन प्रदान करता है। एसबीआई बिजनेस लोन के अंतर्गत कम से कम 1,00,000 रुपये और अधिकतम व्यवसाय और व्यवसायी के बैंकिंग इतिहास पर निर्भर करता है।
  • भारतीय स्टेट बैंक व्यवसाय ऋण कम ब्याज पर उपलब्ध करता है। एसबीआई बिजनेस लोन की ब्याज दर लोन मार्जिन तथा MCLR के आधार पर निर्धारित होती है।
  • एसबीआई बिजनेस लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया आसान और तीव्र है। जिसे बिना किसी झंझट के जल्द ही पूरा किया जा सकता है।  
  • भारतीय स्टेट बैंक अपने ऋण ग्राहकों को WORKING CAPITAL फाइनेंस लिए एक वर्ष जबकि बैंकिंग मॉनेटरी लोन के लिए 15 वर्ष तक की समय सीमा ऋण चुकाने के लिए प्रदान करता है।
  • महिलाएं भी एसबीआई बिजनेस लोन हासिल कर सकती हैं जो विशेष रूप से महिलाओं के स्वामित्व वाले व्यवसाय हेतु डिजाइन किया गया है। महिला व्यवसायी ऋण के ब्याज दर में 0.05% की छूट प्राप्त कर सकती है।
  • SBI मिड-कॉरपोरेट ग्रुप को अपनी कामर्शियल सेवाएं उपलब्ध करता है। जिसके तहत उन्हें भी फाइनेंसिंग सेवाएं प्रदान की जाती है।

भारतीय स्टेट बैंक व्यवसाय ऋण के मुख्य बिंदु

एसबीआई बिजनेस लोन की श्रेणी एसएमई/एमएसएमई
एसएमई उत्पाद ऋण सुरक्षित या असुरक्षित
प्रोसेसिंग शुल्क स्वीकृत ऋण राशि का 1% से 5% तक होती हैं
वार्षिक गारंटी शुल्क व्यवसाय और ऋण के प्रकार के अनुसार
ऋण मार्जिन ऋण के प्रकार के अनुसार (10% से 40% तक )
ऋण का मुख्य उद्देश्यव्यवसायों को परिसंपत्ती, कार्यशील पूँजी एवं अचल संपत्ती के संचयन हेतु
एसएमई ऋण की ब्याज दरें प्रतिस्पर्धी एमसीएलआर औऱ मौजूदा ईबीएलआर (बाह्य बेंचमार्क ऋण दर) सेसम्बंधित होती है।
एकीकृत शुल्क कम से कम 7,500 रुपये जिसमें प्रोसेसिंग फीस, कागजी करवाई, जाँच-पड़ताल आदि अन्य शामिल है।
ऋण अदायगी अवधि 12 महीने से 5 वर्ष तक।

एसबीआई बिजनेस लोन के प्रकार

एसबीआई बिजनेस लोन कई प्रकार के होते हैं जिन्हें मुख्यतः दो वर्गों में रखा जा सकता है, सुरक्षित बिजनेस लोन और असुरक्षित बिजनेस लोन। इन्हीं दोनों वर्गों में सभी प्रकार के लोन आ जाते हैं। एसबीआई द्वारा दिए जाने वाले प्रमुख बिजनेस लोन निम्नलिखित प्रकार हैं।

सूर्य शक्ति -सोलर वित्तएसएमई स्मार्ट स्कोरसूक्ष्म एवं लघु उद्योगों के लिए ऋण पीएमइजीपी
संपर्क रहित ऋण-अनुमोदन मंचएसएमई क्रेडिट कार्ड दाल मिल प्लसपीएमएमवाइ
आस्ति समार्थित ऋणवेयरहाउस रसीद फाइनेंसवाणिज्यिक वाहन ऋणसीजीटीएमएसई
आस्ति समर्थित ऋण-वाणिज्यिक स्थावर सम्पदाखाद्य प्रसंस्करण उद्योग को वित्त के लिए एसबीआई निर्यातक गोल्ड कार्ड योजनाजीईसीएल
निर्यात पैकिंग क्रेडिटव्यवसाय प्रतिनिधियों को लोन सतत योजना में सम्पीड़ित बायोगैस(सीबीजी )DAF-SDSM
ई-डीलर फाइनेंस योजनाएसएमई गोल्ड लोनजैव ईंधन परियोजना वित्तियनएलजीएससीएटीएस
ई-वेंडर फाइनेंस योजनाएसएमई मार्बल प्लस ऋणसीए प्रतिष्ठान के लिए एसएमई ऋणपीएम मुद्रा योजना
फ्लीट फाइनेंसएसएमई कार ऋणटाटा मोटर्स लिमिटेड के साथ टाई-अप में एसबीआई फ्लीट फाइनेंसस्टार्ट-अप के लिए वित्त (एमएसएमई उड़ान)
लीज रेंटल डिस्काउंटिंग आढ़तिया प्लसटाटा मोटर्स के साथ एससीवी फाइनेंसस्टैण्ड-अप इंडिया
सरलीकृत लघु व्यवसाय ऋण एसएमई ओपन मियादी ऋण महिंद्रा & महिंद्रा लिमिटेड के साथ टाई -अप एससीवी वित्तहेल्थ केयर व्यवसाय ऋण (डॉक्टर योजना)

एसबीआई व्यवसाय लोन से सम्बंधित ब्याज दर और अन्य शुल्क

एसबीआई बिजनेस लोन के अंतर्गत मिलाने वाले लोन की ब्याज दरें एवं आरम्भिक शुल्क मार्जिन, तथा प्रोसेसिंग/एकमुश्त शुल्क की सूची

ऋण का प्रकार ब्याज की दर आरम्भिक शुल्क मार्जिन प्रोसेसिंग/एकमुश्त शुल्क
सूर्य शक्ति -सोलर वित्त एमसीएलआर से संबद्ध प्रतिस्पर्धी ब्याज दरराशि का 1% + जीएसटी 20% (न्यूनतम)राशि का 1%
आस्ति समर्थित ऋण-वाणिज्यिक स्थाई संपत्ति एमसीएलआर + 3.05% प्रति वर्षऋण सीमा का 1% ऋण का 25%ऋण का 1%
ई-वेंडर फाइनेंस योजनएमसीएलआर से संबद्ध तुलनात्मक NO NO रु.10,000 से रु. 50,000 तक
फ्लीट फाइनेंसएमसीएलआर + 0.75% प्रति वर्ष से 3.25% प्रति वर्ष ऋण का 1%ऋण का 10% ऋण का 1%
सरलीकृत लघु व्यवसाय ऋणईबीएलआर से जुड़ा तुलनात्मक NO ऋण का 10%7500 रुपये
व्यवसाय प्रतिनिधियों कोएमसीएलआर + 2.75%NA NO रु. 50,000 से अधिक लोन पर ऋण 0.50%
एसएमई कार ऋणएमसीएलआर से संबद्ध प्रतिस्पर्धी ब्याज दरऋण राशि का 0.50%ऑन-रोड कीमत पर रु.10 लाख तक 15% / 10 लाख से अधिक 20%ऋण राशि का 0.50%
सीए प्रतिष्ठान के लिए एसएमई ऋणएमसीएलआर से संबद्ध प्रतिस्पर्धी ब्याज दर 500 रुपये+GST से 1000 रुपये +GST मीयादी ऋण: 25%NA
टाटा मोटर्स के साथ एससीवी फाइनेंसएमसीएलआर से संबद्ध प्रतिस्पर्धी ब्याज दरऋण राशि का 0.50% + GST ऑन-रोड कीमत पर 10%ऋण राशि का 0.50%
एसएमई क्रेडिट कार्ड एमसीएलआर + 2.50% प्रति वर्ष NO 50,000 रुपये से अधिक 20%1,000 (+ जीएसटी)
पीएम मुद्रा योजनाएमसीएलआर + 2.75% प्रति वर्ष NO 50000 से अधिक पर ऋण का 10%50000 से अधिक पर ऋण राशि का 0.50% + कर
स्टैण्ड-अप इंडियाएमसीएलआर से संबद्ध प्रतिस्पर्धी ब्याज दरNO न्यूनतम मार्जिन 10%. समग्र ऋण पर 25% तक की मार्जिनऋण राशि का 0.20%
हेल्थ केयर व्यवसाय ऋणएमसीएलआर + 2.00% प्रति वर्ष से 2.50% प्रति वर्ष NO मीयादी ऋण – 15%
नकदी ऋण – 25%
NO
सूक्ष्म एवं लघु उद्योगों के लिएसंबद्ध एसएमई सुविधा/ऋण पर लागू के समतुल्यNO NO NO
ई – डीलर फाइनेंस स्कीम एमसीएलआर + 0.55% प्रति वर्ष से 3.00% प्रति वर्ष NONOरु. 10,000 से 30,000/- तक ।
वेयरहाउस रसीद फाइनेंसएमसीएलआर + 1.00% प्रति वर्ष से 3.25% प्रति वर्ष
6 और 12 माह के एमसीएलआर
NO  मार्जिन बाजार कीमत का 25% या 35% हो सकता है। ऋण की मात्रा पर एकीकृत प्रभार
दाल मिल प्लस एमसीएलआर +0.90% प्रति वर्ष से 2.10% प्रति वर्ष NA मीयादी ऋण का 25%
कार्यशील पूंजी स्टॉक 25%; बही ऋण का 40% 90 दिनों तक की कवर अवधि के साथ
NA
अढ़तिया प्लस योजना एमसीएलआर +1.00% प्रति वर्ष से 7.10% प्रति वर्ष NO स्टॉक : 30%
प्राप्य राशियाँ (6 महीने तक की) : 40%
 ऋण का 0.50% प्रति वर्ष। (न्यूनतम 5,000 रुपये एवं अधिकतम 50,000 रुपये +GST
लीज रेंटल डिस्काउंटिंग एमसीएलआर +3.10% प्रति वर्ष से 3.60% प्रति वर्ष NO NA  लागू अनुदेशों के अनुसार ।

एमसीएलआर की प्रभावी दर एवं बीपीएलआर, ईबीएलआर/आरएलएलआर की दरें

एसबीआई बिजनेस लोन की ब्याज दर एमसीएलआर,बीपीएलआर,ईबीएलआर/आरएलएलआर से सम्बंधित होता है।(एमसीएलआर) मार्जिनल कॉस्ट ऑफ़ फंड्स बेस्ड लेंडिंग रेट, (बीपीएलआर) बेंचमार्क प्राइम लेंडिंग रेट, (ईबीएलआर) एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट, (आरएलएलआर) रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट की 15 जुलाई 2023 से प्रभावी दर इस प्रकार हैं।

समय एमसीएलआर
% में वर्तमान
संशोधित ईबीएलआर/
आरएलएलआर
वर्तमान
संशोधित बीपीएलआर
वार्षिक %
एक दिन 7.95 8.00 8.90% +CRP +BSP /
8.50% +CRP
9.15%+CRP +BSP /
8.75% +CRP
14.85%
एक महीना 8.10 8.15 CRP = क्रेडिट रिस्क प्रीमियम
तीन महीना 8.10 8.15 BSP = बेसिक सेल प्राइस
छः महीना 8.40 8.45
एक वर्ष 8.50 8.55
दो वर्ष 8.60 8.65
तीन वर्ष 8.70 8.75

विभिन्न एसबीआई व्यवसाय ऋण की विशेषताएं पात्रता एवं शर्ते:-

भारतीय स्टेट बैंक द्वारा प्रदान किये जाने वाले विभिन्न बिजनेस लोन की विशेषता, योग्यता और शर्तो का उल्लेख निम्नलिखित हैं।

सूर्य शक्ति-सोलर वित्त की विशेषताएं

  • एसएमई और व्यावसायिक उद्यमों को आर्थिक उपयोग के लिए 1 मेगावाट क्षमता तक के सोलर सेल सिस्टम की स्थापना के लिए पूंजी प्रदान करने हेतु एसबीआई द्वारा यह योजना लांच की गयी है।
  • इसके अंतर्गत मियादी ऋण अधिकतम 4 करोड़ रुपये तक प्रदान किये जाते है। ऋणी मार्जिन / अंशदान कम से कम 20% और ऋण की रेटिंग के आधार पर आकर्षक ब्याज दर रखी गयी है।
  • एमएसएमई के लिए ईबीएलआर लिंक्ड 6 महीने और गैर-एमएसएमई के लिए एमसीएलआर लिंक्ड 10 वर्ष तक ऋण चुकाने की अवधि तय की गयी है।
  • प्रारंभिक प्रभार/शुल्क मियादी ऋण राशि का 1% + लागू जीएसटी और ऋण का प्रसंस्करण शुल्क त्वरित टर्न अराउंड टाइम (टीएटी) के लिए केंद्रीकृत प्रसंस्करण के अनुसार।
सूर्य शक्ति-सोलर वित्त की पात्रता
  • सौर रूफटॉप/ग्राउंड माउंटेड सिस्टम को स्थापित करने वाले सभी मौजूदा और भावी एसएमई व्यावसायिक उद्यम का सिबिल स्कोर 650 से कम नहीं होना चाहिए।
  • सौर प्रणालियों को ग्रिड से जोड़ा जाना चाहिए जिसकी नेट मॉनीटरिंग व्यवस्था हो।
  • एमएसएमई इकाई के पास उद्यम पंजीकरण संख्या (यूआरएन) होनी चाहिए।
  • सोलर रूफटॉप/ग्राउंड माउंटेड ग्रिड-कनेक्टेड सिस्टम की स्थापना के बाद बिजली लागत बचत कम से कम मासिक किश्त के सामान हो।
पूंजीगत पात्रता मानदंड
  • सभी मियादी ऋणों का औसत सकल अनुपात डीएससीआर 1.20 न्यूनतम।
  • अचल आस्ति व्याप्ति अनुपात एफएसीआर 1.10 न्यूनतम।
  • ब्याज व्याप्ति अनुपात आईसीआर 1.75 न्यूनतम।
  • कर्ज इक्विटी अनुपात 4:1 अधिकतम और कर्ज/ ईबीडीटीए 6 अधिकतम।
नियम एवं शर्तें
  • संपार्श्विक प्रतिभूति अनिवार्य नहीं है, यदि बैंक के आकलन के अनुसार सुरक्षा कवरेज पर्याप्त है।
  • ऋण गारंटी प्रमोटरों (मालिक / भागीदार / निदेशक, आदि) की व्यक्तिगत गारंटी होगी।
  • पूर्व भुगतान शुल्क शून्य है।

आस्ति समर्थित ऋण – वाणिज्यिक स्थावर संपदा

एसबीआई बिजनेस लोन की इस योजना के माध्यम से स्थावर संपदा जैसे कार्यालय भवन, खुदरा स्थान, औद्योगिक स्थान या गोदाम, व्यावसायिक स्थान आदि का निर्माण/अधिग्रहण या कार्यशील पूंजी, अचल आस्ति के अधिग्रहण या दोनों के लिए ऋण प्रदान किया जाता है।

आस्ति समर्थित ऋण – वाणिज्यिक स्थावर संपदा की विशेषताएं

  • इसमें विभिन्न संस्थाओं/कंपनी/एलएलपी हेतु ऋण की मात्रा 10 लाख रुपये अधिकतम, मेट्रो और शहरी क्षेत्रो के लिए 50 करोड़ रुपये, अर्ध-शहरी क्षेत्र हेतु 20 करोड़ रुपये और ग्रामीण केंद्र के लिए कुछ नहीं।
  • मूल्य की तुलना में ऋण (एलटीवी) अचल संपत्ति प्राप्य मूल्य का 50%
  • मार्जिन कार्यशील पूंजी और अचल सम्पत्तियों के अधिग्रहण, दोनों के लिए 25%
  • 6 महीने के एमसीएलआर/ ईबीएलआर से सम्बंधित प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारण, साथ ही अधिस्थगन अवधि के दौरान भी मासिक ब्याज देना होगा।
  • सामान्यतया पट्टे या किराये के भुगतान, संपत्ति की बिक्री के माध्यम से ऋण की अदायगी जिसका समय अधिस्थगन अवधि सहित 12 महीने से 72 महीने। यदि चुकौती किराए से हो रही है तो यह समय 120 महीने हो सकता है।
  • प्रक्रिया शुल्क/अग्रिम शुल्क ऋण का 1% जो अधिकतम 10 लाख रुपये है।

पात्रता मानदंड

  • एसबीआई ऋण सुविधा का लाभ ले रहे मौजूदा ग्राहक।
  • बेचने योग्य सम्पत्तिओं को गिरवी के रूप में रखने वाली नई इकाईयां।
  • अन्य बैंकों/वित्तीय संस्थाओं से संतोषजनक लेन-देन करने वाली संस्थाएं।
  • मौजूदा इकाईयों का अधिग्रहण “अधिग्रहण मानदंड” पैरामीटर के अनुपालन के अधीन करने वाली संस्था।

शर्तें एवं नियम

  • संपार्श्विक प्रतिभूति इकाई, उसके मालिक/पार्टनर/निदेशक या उनके निकट संबंधियों से संबंधित।
  • एक समान पार्टनर/निदेशक वाली सहयोगी इकाइयों या उनके निकट संबंधियों के नाम पर अचल संपत्ति। (सरफेसी अधिनियम के तहत अनुपालक)

ई वेन्डर फाइनान्स स्कीम

प्रतिष्ठित कॉरपोरेट/प्रमुख उद्योग (आइएम) के संस्तुत वेंडर को ऋण उपलब्ध करने हेतु योजना है। इसमें पूरी तरह से वेब आधारित समाधान और वेंडर के खाते में तत्काल इलेक्ट्रॉनिक रुप में ऋण धन प्राप्त हो जाता है। इसके लिए वेंडर को बैंक के चक्कर नहीं लगाने पड़ते हैं।

ई वेन्डर फाइनान्स स्कीम विशेषताएँ

  • इसके द्वारा बैंक टाइ-अप किये हुए प्रतिष्ठित प्रमुख उद्योगों/कॉरपोरेट के वेंडरों को नकद जमा ऋण की सुविधा।
  • इसमें बैंक द्वारा आवश्यकता अनुसार ऋण उपलब्ध कराया जाता है, जो बिना संपार्श्विक प्रतिभूति का होगा।
  • ऋण में कोई मार्जिन नहीं और एमसीएलआर से जुड़ी प्रतियोगी कीमत का निर्धारण।
  • ऋण चुकाने का समय भविष्य में प्राप्य होने वाली राशियों के क्रम के अनुसार।
  • इस ऋण हेतु प्रक्रिया शुल्क /एकमुश्त शुल्क रु. 10,000 से रु. 50,000 तक वसूल किये जाते हैं।

पात्रता मानदंड

  • बैंक के वर्तमान ऋण ग्राहक जो पिछले 3 वर्ष से लगातार लाभ में हैं।
  • आइएम का न्यूनतम टर्नओवर 500 करोड़ रुपये और उससे अधिक।
  • इकाई की वाह्य रेटिंग A या उससे उपर और आंतरिक रेटिंग एसबी-7 या उससे अधिक।
  • आईएम का कुल वेंडर आधार कम से कम 50 हो।
  • कुल बकाया तीन माह की खरीद से अधिक न हो।
  • आरएमडी के दिशा निर्देशों के अनुसार औद्योगिक परिदृश्य का ध्यान रखना।

अन्य शर्तें

  • लेनदेन बैंक के इंटरनेट बैंकिंग प्लेटफॉर्म पर किया जाता है।
  • बहु चैनल चुकौती विकल्प जैसे कि नकद, चेक, निधि अंतरण, एनइएफटी, आरटीजीएस इत्यादि।
  • ई-वीएफएस 2 प्रकार का है (1) वेंडर पहुँच का, जिसमे वेंडर को वित्तपोषण प्रतिष्ठित कॉरपोरेट/आइएम को पूर्ति किए गए माल/सेवाओं के आधार पर होगा। (2) आइएम पहुँच का, इसमें प्रतिष्ठित कॉरपोरेट/आइएम को उनके वेंडरों की आपूर्ति से प्राप्त भुगतान के आधार पर वित्तपोषण होगा।

फ्लीट फाइनान्स

फ्लीट योजना के द्वारा नए वाहनों (छोटे, हल्के, मध्यम, भारी वाणिज्यिक वाहन, यात्री वाहन) की खरीद हेतु वित्तपोषण किया जाता है। एसबीआई व्यवसाय लोन की इस स्किम के माध्यम से इलेक्ट्रिक/हाइब्रिड वाणिज्यिक वाहनों के लिए भी पूंजी दी जा सकती है।

फ्लीट फाइनेन्स की विशेषताएं

  • वाहन के चालक, आर्थिक उपयोगकर्ता, बिजनेस इंटरप्राइजेस, ठेकेदार, खदान मालिक, पोर्ट ओनर/ऑपरेटर/एग्रीगेटर आदि।
  • ऋण सीमा न्यूनतम 50 लाख रुपये अधिकतम 50 करोड़ रुपये तथा इसमें ऋण पर मार्जिन को स्कोरिंग मॉडल के तहत स्कोर से जोड़ा गया है।
  • इसमें मूल्य निर्धारण (6 महीने) एमसीएलआर/ईबीएलआर से जुड़ा हुआ प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारण और प्रारंभिक शुल्क ऋण राशि का 1% है।
  • ऋण की अदायगी 50% से 60% के बीच स्कोर हेतु अधिकतम 60 महीने। जबकि 60% और उससे अधिक स्कोर के लिए ईएमआई आधारित अधिकतम 66 महीने में करना।

पात्रता मानदंड

  • परिवहन व्यवसाय व उससे सम्बंधित अन्य व्यवसायों में कम से कम 3 वर्ष का अनुभव।
  • कम से कम 10 वाहनों वाले फ्लीट ऑपरेटर जिसको न्यूनतम 10 नए वाहन या 50 लाख रुपये की आवश्यकता हो।
  • राष्ट्रीय/राज्य मार्ग परमिट और अन्य आवश्यक परमिट/लाइसेंस/अनुमोदन रखने वाले ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर। वर्तमान बैंकों/वित्तीय संस्थाओं के साथ बेहतर लेन- देन रिकॉर्ड और आयकर का प्रमाण (व्यक्तिगत और व्यावसायिक)।
  • पात्रता स्कोरिंग मॉडल के तहत प्राप्त अंकों से जुड़ी हुई है। जिसमे पात्रता के लिए स्कोरिंग मॉडल के तहत न्यूनतम 50% अंक प्राप्त करने होंगे।
संपार्श्विक प्रतिभूति
  • ऋण 2 करोड़ रुपये होने पर कोई संपार्श्विक प्रतिभूति नहीं। ऋण सीजीटीएमएसई के अंतर्गत कवर होंगे। गारंटी शुल्क ऋणी द्वारा वहन किये जायेंगे।
  • 2 करोड़ रुपये से अधिक लोन पर मौजूदा भार-रहित वाहनों सहित न्यूनतम (वर्तमान पुनर्विक्रय मूल्य) का 20% मूर्त संपार्श्विक होगा।
  • यदि स्कोरिंग मॉडल में न्यूनतम 60% या उससे अधिक ऋणी के स्कोर हैं तो संपार्श्विक प्रतिभूति नहीं लगेगी।

सरलीकृत लघु व्यवसाय ऋण

एसबीआई व्यवसाय लोन के अंतर्गत इस बिजनेस लोन योजना के माध्यम से इकाई की व्यवसायिक क्रियाकलापों के लिए कार्यशील पूंजी की जरूरतों को आसानी से सहज रूप में प्रदान किया जाता है।

सरलीकृत लघु व्यवसाय ऋण की विशेषताएं

  • विनिर्माण, सेवा गतिविधियों, स्वरोजगार, पेशेवर व्यक्तियों और थोक/खुदरा व्यापार में लगी सभी व्यावसायिक इकाइयों को एसबीआई व्यवसाय लोन के द्वारा ऋण प्रदान करना।
  • ऋण राशि न्यूनतम 10 लाख रुपये से अधिक और अधिकतम 25 लाख रुपये।
  • मार्जिन 10% जो स्टॉक और प्राप्य के माध्यम से तय होगी।
  • मूल्य निर्धारण ईबीएलआर से जुड़ा प्रतिस्पर्धी मूल्य द्वारा।
संपार्श्विक प्रतिभूति
  • भूमि व भवन पर अनन्य बंधक प्रभार के रूप में 40% का न्यूनतम संपार्श्विक/नकद समकक्ष जैसे सावधि जमा, म्यूचुअल फंड आदि पर ग्रहणाधिकार/प्रभार।
  • इस उद्देश्य के लिए अचल संपत्ति का प्राप्य मूल्य लिया जाएगा तथा संपत्ति सरफेसी अनुपालक होनी चाहिए।
  • सभी निदेशकों/भागीदारों की व्यक्तिगत गारंटी। तथापि, व्यावसायिक निदेशक/स्वतंत्र निदेशकों/नामित निदेशकों की व्यक्तिगत गारंटी नहीं ली जाएगी।
  • बंधक/गिरवी के रूप में दी जाने वाली संपार्श्विक प्रतिभूति के स्वामी की व्यक्तिगत गारंटी।
ऋण चुकाने की अवधि
  • नगदी ऋण मांग पर प्रतिदेय अथवा वार्षिक रूप से नवीनीकृत।
  • ड्रॉपलाइन ओडी 12 महीनों से 60 महीनों तक और अधिकतम तीन महीने की ऋणस्थगन सहित। जिसकी वार्षिक समीक्षा की जाएगी।
  • आहरण शक्ति को मासिक रूप से कम किया जाएगा जिससे अंत में बकाया का परिसमापन किया जा सके।
  • उपलब्ध आहरण शक्ति तक नियमित लेनदेन की अनुमति है। जबकि किसी भी तरह के अधिक आहरण की अनुमति नहीं होगी।
  • हर महीने का अंतिम कार्यदिवस डीपी कटौती की अथवा किश्त की देय तिथि होगा।
  • परिसमापन के बाद, एसबीआई व्यवसाय लोन यह सुविधा देता है कि यदि और ऋण की आवश्यकता है, तो नया अनुरोध कर सकते है।
  • इस बिजनेस लोन में एकीकृत शुल्क लागू कर के साथ 7500 रुपया है।

पात्रता मानदंड

  • व्यवसाय एक ही स्थान/क्षेत्र में कम से कम 3 साल से मौजूद हो।
  • ऋणी के पास परिसर का स्वामित्व अथवा दुकान के मालिक के साथ वैध किरायेदार समझौता होना चाहिए।
  • किराए के परिसर के मामले में न्यूनतम 3 वर्ष तथा किराए/पट्टे के परिसर में न्यूनतम 1 वर्ष से व्यवसाय होना चाहिए।
  • ऋण आवेदक का किसी भी बैंक में न्यूनतम 2 वर्षों से चालू खाता हो। जिसमे 10,000 रुपये का न्यूनतम मासिक शेष और पिछले 12 महीनों के दौरान समग्र जमा न्यूनतम 50 लाख रुपये हो।
  • बिजनेस इकाई वित्त देने वाली शाखा से 10 किमी के दायरे में स्थित हो। ‘ऋण दिया जाए/ना दिया जाए’ के मानदंडों के अनुसार भी पात्रता मानदंड पूरे हो।

Qulification for SBI Business Loan

भारतीय स्टेट बैंक द्वारा प्रदान किये जाने वाले विभिन्न प्रकार के बिजनेस लोन हेतु पात्रता भी भिन्न होती है। फिर भी लोन हेतु एक सामान्य पात्रता/योग्यता का उल्लेख नीचे किया गया है।

  • पात्रता एसबीआई के लोन स्कोरिंग मॉडल में प्राप्त अंकों से जुड़ी हुई है।
  • एसबीआई बिजनेस लोन के अंतर्गत विभिन्न प्रकार की रचनात्मक प्रक्रियाओं से जुड़े व्यवसाय, समूह या व्यक्तिगत सहायता समूहों, स्व-व्यवसाय वस्तु -विनिमय व्यापर में लगी हुयी व्यावसायिक इकाइयों आदि को लोन प्रदान किया है।
  • लोन की इच्छुक सांस्थान को कम से कम 5 वर्ष से एक स्थान पर स्थापित होना चाहिए। आवेदक का सिबिल स्कोर 750 हो।
  • ऋण आवेदक का व्यवसाय वाली जगह पर किसी न किसी रूप में मालिकाना हक़ होना चाहिए, या तो लीगल रूप से किरायेदारी का सम्बन्ध हो।
  • ऋण के इच्छुक व्यवसायी के खाते में पिछले एक वर्ष में न्यूनतम औसत 10,000 प्रति मासिक शेष या वार्षिक एक लाख से ज्यादा होना चाहिए।
  • आवेदक द्वारा एसबीआई में GO/NO GO मानक पूरा किया जाना चाहिए।
  • जो लोग ऋण चाहते है वे कम से कम अपने व्यवसाय में 3 वर्ष से जुड़े हों, या उन्हें 5 वर्ष का सम्बंधित व्यवसाय का अनुभव हो।
  • व्यवसाय लगातार 2 वर्षों से लाभ में हो जो कम से कम प्रति वर्ष 1.5 लाख हो तथा न्यूनतम व्यवसायिक टर्नओवर रु. 40 लाख होना चाहिए।
  • एसबीआई बिजनेस लोन हेतु आवेदन के समय आवेदक की उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए, जबकि ऋण परिपक्वता के समय अधिकतम 65 वर्ष होनी चाहिए।

भारतीय स्टेट बैंक व्यवसाय ऋण के लिए जरुरी दस्तावेज

प्रत्येक बैंक अपने ग्राहकों को कोई भी सुविध देने से पूर्व कुछ जरुरी दस्तावेजों की मांग करता है। उसी तरह एसबीआई बिजनेस लोन हेतु कुछ बेहद जरुरी दस्तावेज भारतीय स्टेट बैंक द्वारा मांगे जाते है, जो निम्नलिखित हैं।

  • ऋण आवेदन फार्म जिसमे पूरी तरह से आवश्यक जानकारियों को भरा गया हो।
  • आवेदक और सह आवेदकों की पासपोर्ट साइज की फोटोग्राफ, पार्टनरशिप की प्रमाणित प्रति।
  • पहचान प्रमाण कंपनी, फर्म, व्यक्ति का वैध पैन कार्ड, व्यवसायी का पासपोर्ट, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड।
  • व्यवसाय का पता: किराया एग्रीमेंट, मालिकाना प्रमाण, फोन का बिल ,बिजली का बिल, शहरी निकाय कर, मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन (MOA) और एसोसिएशन ऑफ एसोसिएशन (AOA), लीज की दशा में लीज का दस्तावेज।
  • पिछले 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट, पिछले 2 साल का ITR, सेल्स टैक्स, GST, CA द्वारा ऑडिट पिछले 2 वर्षों की बैलेंस शीट, 2 वर्ष पूर्व से लाभ-हानि का विवरण, बिजनेस प्लान, व्यवसाय का अस्तित्व प्रमाण।
  • अन्य शॉप एंड स्टेब्लिशमेंट एक्ट का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट्स ट्रेड लाइसेंस व अन्य जो बैंक द्वारा माँगा जाये।

महत्वपूर्ण लिंक

SBI Official Website CLICK HERE
Jharkhand Postal Circle CLICK HERE

एसबीआई बिजनेस लोन Customer Care

एसबीआई कस्टमर सेवा टोल फ्री नंबर :-

  • 1800 1234,
  • 1800 2100,
  • 1800 11 2211,
  • 1800 425 3800,
  • 080-26599990

Email :-

पत्र व्यवहार का पता

Customer Service Department
State Bank of India
State Bank Bhavan, 16th Floor
Madam Cama Road,
Mumbai 400 021

Leave a Comment